Breaking News
Home / टेक्नोलॉजी / सर्वेक्षण में खुलासा, 64 फीसदी भारतीयों को फर्जी खबरों का सामना करना पड़ रहा है

सर्वेक्षण में खुलासा, 64 फीसदी भारतीयों को फर्जी खबरों का सामना करना पड़ रहा है

चैनल हिंदुस्तान डेस्क: हाल में हुए सर्जिकल स्ट्राइक और वायुसेना का पायलट अभिनंदन के मुद्दे पर पर भी सोशल मीडिया में फेक न्यूज का बाजार काफी गर्म रहा। बच्चा चोरी की अफवाहों की वजह से बीते एक साल में देश में कम से कम 40 लोगों की भीड़ की पिटाई से मौत हो चुकी है। पश्चिम बंगाल में इसी महीने ऐसी एक घटना में एक युवक की मौत हो गई। इसके अलावा अलग-अलग हादसों में कम से कम आधा दर्जन लोग घायल हो चुके हैं। अब लोकसभा चुनावों से पहले महामारी की शक्ल लेते फेक न्यूज पर अंकुश लगाना एक बड़ी चुनौती है। इस समस्या के चलते ही व्हाट्सएप ने बीते दिनों मैसेज फारवर्डिंग की अधिकतम सीमा पांच तय कर दी थी।

माइक्रोसॉफ्ट की सर्वेक्षण रिपोर्ट

माइक्रोसॉफ्ट की सर्वेक्षण रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में इंटरनेट उपभोक्ताओं को फर्जी खबरों का सबसे अधिक सामना करना पड़ता है। देश में फर्जी खबरों का प्रसार वैश्विक औसत से कहीं ज्यादा है। कंपनी की ओर से दुनिया के 22 देशों में किए गए सर्वेक्षण के बाद तैयार रिपोर्ट में कहा गया है कि 64 फीसदी भारतीयों को फर्जी खबरों का सामना करना पड़ रहा है। वैश्विक स्तर पर यह आंकड़ा 57 फीसदी का है। माइक्रोसॉफ्ट ने एक बयान में कहा है कि भारत इंटरनेट पर फेक न्यूज के मामले में वैश्विक औसत से कहीं आगे है। सर्वे में शामिल 54 फीसदी लोगों ने इसकी सूचना दी। इसके अलावा 42 फीसदी ने कहा कि उन्हें फिशिंग जैसी वारदातों से भी जूझना पड़ा है। फर्जी खभरों के प्रचार-प्रसार में परिवार या दोस्तों की भी अहम भूमिका होती है। ऐसा करने वालों का आंकड़ा 9 फीसदी बढ़कर 29 फीसदी तक पहुंच गया है।

बीते दिनों भारत-पाक के बीच बढ़े तनाव और उस दौरान सोशल मीडिया पर फर्जी खबरों की बाढ़ के बाद सुप्रीम कोर्ट में दायर एक जनहित याचिका में अदालत से प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल नीडिया पर फेक न्यूज के प्रचार-प्रसार पर अंकुश लगाने के लिए दिशानिर्देश तय करने की अपील की गई है। अनुजा कपूर की ओर से दायर उक्त याचिका में कहा गया है कि फर्जी खबरों की बाढ़ ने सोशल मीडिया को युद्ध का मैदान बना दिया था।

Spread the love

About desk

Check Also

इस तरह SBI ATM से जितनी बार चाहें निकालें पैसा, नहीं लगेगा कोई चार्ज

चैनल हिंदुस्तान डेस्क: भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के बचत खाता धारक एटीएम से हर महीने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *