Breaking News
Home / राष्ट्रीय / अयोध्या विवाद : मध्यस्थता पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षित

अयोध्या विवाद : मध्यस्थता पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षित

चैनल हिंदुस्तान डेस्क: अयोध्या विवाद की मध्यस्थता के सवाल पर सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को फैसला सुरक्षित रखा। आज निर्मोही अखाड़े को छोड़कर रामलला विराजमान समेत हिंदू पक्ष के बाकी वकीलों ने मध्यस्थता का विरोध किया। यूपी सरकार ने भी इसे अव्यावहारिक बताया है जबकि मुस्लिम पक्ष मध्यस्थता के लिए तैयार है। अयोध्या विवाद में मध्यस्थता के लिए सुप्रीम कोर्ट ने नाम मांगे हैं। बुधवार को कोर्ट ने करीब एक घंटे की सुनवाई के बाद आदेश सुरक्षित रखा।

सुप्रीम कोर्ट में हिन्दू महासभा मध्यस्थता के लिए तैयार नहीं है। उसने कहा है कि बिना सभी पक्षों की बात सुने मध्यस्थता का आदेश नहीं दिया जा सकता। सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि हम हैरान हैं कि विकल्प आजमाए बिना मध्यस्थता को खारिज क्यों किया जा रहा है! कोर्ट ने कहा अतीत पर हमारा नियंत्रण नहीं है पर हम बेहतर भविष्य की कोशिश जरूर कर सकते हैं।

सुनवाई के दौरान जस्टिस एसए बोबडे ने कहा कि इसमें केवल एक मेडिएटर की जरूरत नहीं है बल्कि मेडिएटर्स का पूरा पैनल ही यहां जरूरी है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि यह ठीक नहीं होगा कि अभी कहा जाए कि इसका कोई नतीजा नहीं होगा। यह भावनाओं और विश्वास का टकराव है। यह दिल और दिमाग पाटने का सवाल है। हमें गंभीरता पता है। हमें पता है बाबरी का क्या हुआ। हम इस मामले को आगे देख रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि उसका मानना है कि अगर मध्यस्थता की प्रक्रिया चालू की जाती है तो इसके घटनाक्रमों पर मीडिया रिपोर्टिंग पूरी तरह से बैन होनी चाहिए। कोर्ट ने कहा कि यह कोई गैग ऑर्डर यानी न बोलने देने का आदेश नहीं है बल्कि सुझाव है कि रिपोर्टिंग नहीं होनी चाहिए। मामले की सुनवाई के दौरान मुस्लिम पक्षकार ने कहा मेडिएशन के लिए सबकी सहमति जरूरी नहीं है।

वहीं इसपर जज चंद्रचूड़ ने कहा कि यह विवाद दो समुदाय का है और सबको इसके लिए तैयार करना आसान काम नहीं है। यह बेहतर होगा कि दोनों समुदायों के आपसी बातचीत से मामला हल हो जाए पर कैसे ये अहम सवाल बना हुआ है।

निर्मोही अखाड़े ने मध्यस्थता के पक्ष में दलील दी है। इसके साथ सुन्नी वक्फ बोर्ड ने भी मध्यस्थता का पक्ष लिया जबकि हिंदू महासभा इसके विरोध में है। मुस्लिम पक्षकारों के वकील ने कहा कि मुस्लिम पक्ष मध्यस्थता के लिए सहमत है और किसी भी तरह का सुलह या समझौता पार्टियों को बांध देगा।

Spread the love

About desk

Check Also

शाहीन बाग प्रदर्शन पर बोले दिलीप घोष – कोई मर क्यों नहीं रहा, क्या उन्होंने अमृत पी लिया?

चैनल हिंदुस्तान डेस्क: देश के कई राज्‍यों में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और नेशनल रजिस्‍टर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *