Breaking News
Home / शिक्षा / बड़ी खबर: नीट और जेईई परीक्षा पैटर्न में हुआ बदलाव, अब ऐसे होगी परीक्षा

बड़ी खबर: नीट और जेईई परीक्षा पैटर्न में हुआ बदलाव, अब ऐसे होगी परीक्षा

डेस्क: नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (नीट) परीक्षा साल में दो बार और सिर्फ ऑनलाइन मोड से कराने का फैसला बदल दिया है। यह निर्णय मानव संसाधन विकास (एचआरडी) मंत्रालय ने स्वास्थ्य मंत्रालय की सिफारिश के बाद लिया है। अब मेडिकल में प्रवेश लेने के लिए नीट परीक्षा पुराने पैटर्न से ही होगी। आपको बता दें कि पुराने पैटर्न के अनुसार यह परीक्षा साल में एक बार और पैन पेपर की सहायता से होगी।
नीट परीक्षा अब 5 मई 2019 को होगी। एनटीए ने नीट के अलावा यूजीसी नेट 2018, सीमैट और जीपैट परीक्षाओं की तिथि भी जारी कर दी है। इनमें यूजीसी नेट की परीक्षा 9 से 23 दिंसबर 2018 के बीच होगी। इस परीक्षा के लिए 19 नवंबर से प्रवेश पत्र डाउनलोड किए जा सकेंगे। सीमैट और जीपैट की परीक्षा 28 जनवरी 2019 को होगी। परीक्षा का परिणाम 10 जनवरी, 2019 को घोषित किया जाएगा।

जेईई मुख्य पहली परीक्षा 6 से 20 जनवरी 2019 के बीच होगी, जबकि दूसरी परीक्षा 6 से 20 अप्रैल 2019 के बीच होगे की संबावना है। दोनों ही परीक्षाएं कम्प्यूटर आधारित होंगी। इसकी प्रैक्टिस के लिए एनटीए ने देशभर में 26 सौ से ज्यादा टेस्ट प्रैक्टिस सेंटर बनाए है। इनमें इंजीनियरिंग कॉलेज और स्कूलों के कम्प्यूटर लैब शामिल हैं।

नीट परीक्षा का पुराना पैटर्न

  • परीक्षा में कक्षा 11वीं और 12वीं के के भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीवविज्ञान पाठ्यक्रम से प्रश्न शामिल होंगे।
  • भौतिक और रसायन विज्ञान दोनों में 45 प्रश्न हैं।
  • जीवविज्ञान में 90 प्रश्न हैं जो बॉटनी और जूलॉजी के बीच समान रूप से विभाजित हैं।

प्रश्नों की विषय      संख्या    अधिकतम अंक
भौतिकी                45          180
रसायन विज्ञान      45          180
जूलॉजी                  45         180
वनस्पति विज्ञान     45         180

मुख्य जानकारी

  • अनुत्तरित प्रश्नों के लिए कोई अंक नहीं दिया जाएगा।
  • उत्तर को बदलने की अनुमति नहीं है।
  • हर सही उत्तर के लिए, उम्मीदवार को 4 अंक दिए जाएंगे और प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 1 अंक काटा जाएगा।
Spread the love

About admin

Check Also

बिहार बोर्ड के कई हाईस्कूलों की मान्यता रद्द

डेस्क: बिहार विद्यालय परीक्षा समिति (बिहार बोर्ड) ने विभिन्न जिलों के करीब 31 हाईस्कूलों व …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *