Cyclone Fani: गुरुवार तक पर्यटकों को ‘पुरी’ खाली करने का निर्देश

0

चैनल हिंदुस्तान डेस्क: चक्रवाती तूफान फानी को लेकर पूरा देश पहले से ही अलर्ट है। किसी बड़े संकट से बचने के लिए भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आइएमडी) ने ओडिशा में ‘येलो वार्निंग’ जारी की है। पुरी प्रशासन ने पर्यटकों को दो मई यानी गुरुवार तक पुरी छोड़ने का निर्देश दिया है। सरकार की ओर से आने वाले दिनों में पर्यटकों की यात्रा रद करने का भी निर्देश दिया गया है।

वैज्ञानिकों ने कहा कि ओडिशा में अगले कुछ घंटों में चक्रवाती तूफान बेहद खतरनाक रूप ले सकता है। मौसम विभाग के अनुसार ओडिशा के बौध, कालाहांडी, संबलपुर, देवगढ़ और सुंदरगढ़ जैसे अलग-अलग स्थानों पर फानी तूफान के चलते भारी बारिश हो सकती है। वहीं, खासकर राज्य के बौध, कालाहांडी, संभलपुर देवगढ़ और सुंदरगढ़ में फानी चक्रवात तूफान के असर को ज्यादा देखा जा सकता है।

गृह मंत्रालय के आपदा प्रबंधन विभाग के अनुसार, चक्रवाती तूफान फानी बुधवार दोपहर तक उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने की संभावना है। इसके बाद फानी तूफान उत्तर-उत्तर-पूर्व की ओर बढ़ेगा, इसके साथ ही यह चक्रवाती तूफान गोपालपुर और चंदबली के बीच ओडिशा तट को पार करेगा। वहां से, यह तीन मई यानी शुक्रवार की दोपहर के आसपास पुरी के दक्षिण में चलेगा इस दौरान चक्रवाती फानी तूफान की अधिकतम गति 175-185 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से 205 किमी प्रति घंटे तक हो सकती है।

ओडिशा में चक्रवात तूफान फानी को लेकर मौसम विभाग ने बताया कि गंजम, पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा जिलों में 150 -160 किमी प्रति घंटे की रफ्तार के साथ तेज हवाएं चल सकती है। गजपति, खुर्दा, कटक, जाजपुर, भद्रक जिलों में 110-120 किमी प्रति घंटे से लेकर 130 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने की संभावना है। ओडिशा के बालासोर में 80-90 किमी प्रति घंटे रफ्तार से शुक्रवार की शाम तक ओडिशा के बाकी जिलों में भी तूफान कहर बरपा सकता है। शुक्रवार को नयागढ़, अंगुल, क्योंझर, मयूरभंज, ढेंकनाल और स्क्वैली में 30-40 किमी प्रति घंटे से लेकर 30-90 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाओं के साथ बारिश हो सकती है।

क्या है, येलो वार्निंग

मौसम विभाग किसी बड़े संकट से बचने के लिए तीन वार्निंग जारी करता है। ये वार्निंग ग्रीन, रेड और येलो हैं। मौसम विभाग के अनुसार येलो वार्निंग का मतलब जस्ट वॉच होता है। इसका मतलब है कि खतरे के प्रति सचेत रहें। येलो वार्निंग के तहत लोगों को सचेत रहने के लिए अलर्ट किया जाता है।

गौरतलब है कि चक्रवाती फानी तूफान के अलर्ट को लेकर पीएम मोदी ने राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन कमेटी (एनसीएमसी) ने बैठक कर हालात का जायजा लिया था। चक्रवाती फानी तूफान को लेकर प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट करते हुए कहा था , ‘चक्रवात फानी के कारण उत्पन्न स्थिति के बारे में अधिकारियों से बात की है। उन्हें सुरक्षात्मक उपाय करने और हर संभव सहायता प्रदान करने के लिए तैयार रहने को कहा है। साथ ही उनसे प्रभावित राज्यों की सरकारों के साथ मिलकर काम करने का आग्रह किया है। मैं सभी की सुरक्षा और सलामती के लिए प्रार्थना कर रहा हूं।’

Spread the love
Hindi News से जुड़े हर अपडेट और को जल्दी पाने के लिए Facebook Page को लाइक करें और विडियो देखने के लिए Youtube को सब्सक्राइब करें।

Leave A Reply