Breaking News
Home / राज्य / पश्चिम बंगाल / चिटफंड घोटाले में CBI की जांच को राजनीतिक रंग नहीं दें – कुणाल घोष

चिटफंड घोटाले में CBI की जांच को राजनीतिक रंग नहीं दें – कुणाल घोष

चैनल हिंदुस्तान डेस्क: सारधा चिटफंड मामलों में आरोपी एवं तृणमूल कांग्रेस के पूर्व सांसद कुणाल घोष ने सोमवार को राजनीतिक दलों से अपील की कि वे पोंजी घोटाले में सीबीआई की जांच को राजनीतिक रंग नहीं दें। श्री घोष ने सोमवार सुबह फेसबुक पोस्ट में कहा कि सीबीआइ को कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार से बहुत पहले ही पूछताछ करनी चाहिए थी. सारधा चिटफंड घोटाले में सीबीआइ की पूछताछ के लिए श्री घोष व राजीव कुमार के साथ इस समय शिलांग में हैं। उन्होंने कहा कि वह राजनीतिक दलों से अनुरोध करते हैं कि वे मामले को राजनीतिक रंग नहीं दें। जांच के तहत अब जो कदम उठाए जा रहे हैं, वे बहुत पहले ही पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा गठित एसआइटी की जांच के समय उठा लिए जाने चाहिए थे। दुर्भाग्यवश, ऐसा नहीं हुआ। खैर, देर आए दुरुस्त आए। उन्होंने यह भी कहा कि जहां तक जांच की बात है, तो कीमती समय बहुत बर्बाद किया जा चुका है क्योंकि न तो सीबीआइ और न ही एसआइटी ने पहले उपयुक्त कदम उठाए। लेकिन उन मामलों को उठाना और इस बड़े घोटाले की जांच के रास्ते में अवरोध पैदा करना समझदारी नहीं होगी। सीबीआइ को उसका कर्तव्य निभाने देना चाहिए।
उन्होंने स्पष्ट रूप से राजीव कुमार की ओर इशारा करते हुए कहा कि सीबीआइ के समक्ष अब जो कोई भी पूछताछ के लिए आता है, उसे अकेले लड़ना चाहिए और इस मामले में राज्य सरकार से कोई भी मदद लेने से बचना चाहिए।

उल्लेखनीय है कि तृणमूल सुप्रीमो और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चिटफंड मामलों में राजीव कुमार से पूछताछ की सीबीआइ की नाकाम कोशिश के बाद केंद्र सरकार के खिलाफ पिछले सप्ताह कोलकाता में धरना प्रदर्शन किया था। श्री घोष को नवंबर 2013 में एसआइटी ने गिरफ्तार किया था। उस समय वह राज्यसभा सदस्य थे। उन्हें 2016 में जमानत दी गई। श्री घोष ने शिलांग में सीबीआइ कार्यालय में प्रवेश करने से पहले कहा कि उन्होंने हमेशा जांच में सहयोग किया है और वह इस बार भी पूरा सहयोग करेंगे।

Spread the love

About admin

Check Also

दानवीरता के लिए सुरेंद्र बहादुर सिंह का सम्मान करेगा अखिल भारतीय क्षत्रिय समाज 

— रविवार को 52 संस्थाएं होंगी भव्य समारोह में शामिल कोलकाता : राम मंदिर निर्माण …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *