Breaking News
Home / राज्य / पश्चिम बंगाल / तृणमूल के कई नेताओं और मंत्री की सुरक्षा बढ़ाई गई, अनुव्रत मंडल को Z+ मोबाइल सिक्योरिटी

तृणमूल के कई नेताओं और मंत्री की सुरक्षा बढ़ाई गई, अनुव्रत मंडल को Z+ मोबाइल सिक्योरिटी

चैनल हिंदुस्तान डेस्क: नदिया के कृष्णगंज के विधायक सत्यजीत विश्वास की हत्या की घटना के बाद पश्चिम बंगाल सरकार ने राज्य के 17 नेता व मंत्रियों की सुरक्षा बढ़ा दी है। कृष्णगंज के विधायक की हत्या के बाद राज्य सरकार ने पुलिस व खुफिया विभाग से नेताओं की सुरक्षा पर रिपोर्ट मांगी थी, जिसकी रिपोर्ट में बताया गया है कि राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में कई नेताओं पर हमला होने की आशंका है। इसे देखते हुए राज्य सरकार ने प्रथम चरण में 17 नेता व मंत्रियों की सुरक्षा बढ़ा दी है।

वीआइपी की सुरक्षा प्रदान करने के लिए गठित सुरक्षा निदेशालय के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, राज्य के कई नेता व मंत्रियों पर हमला होने की आशंका है, इस पुख्ता जानकारी के बाद ही राज्य सरकार ने इन नेताओं और मंत्रियों की सुरक्षा बढ़ाने का फैसला किया है। अब इन नेताओं व मंत्रियों की सुरक्षा के लिए हमेशा उनके साथ पुलिस के जवान व एस्कॉर्ट इत्यादि रहेंगे। इसके साथ ही जिन-जिन नेता व मंत्रियों को फिलहाल सुरक्षा दी जा रही है, उनकी सुरक्षा व्यवस्था वैसे ही बरकरार रहेगी। हालांकि, इस संबंध में पुलिस अधिकारियों ने कुछ कहने से इनकार कर दिया।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और सांसद अभिषेक बनर्जी को अभी जेड प्लस श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की गयी है। कोलकाता के पूर्व मेयर शोभन चटर्जी को भी पहले यह सुरक्षा प्रदान की गयी थी। वहीं, शुभेंदु अधिकारी, फिरहाद हकीम व अरूप विश्वास को भी जेड श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की गयी है।

नदिया जिले के कृष्णनगर नगरपालिका के पूर्व चेयरमैन असीम कुमार साहा, नदिया जिला तृणमूल अध्यक्ष गौरीशंकर दत्त, राणाघाट-पश्चिम के विधायक शंकर सिंह को सुरक्षा प्रदान की जा रही है।

इसके साथ ही कैनिंग पूर्व के विधायक सैकत मोल्ला, दक्षिण कोलकाता युवा तृणमूल कांग्रेस के अध्यक्ष स्वरूप विश्वास, उत्तर कोलकाता युवा तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष जीवन साहा, मुर्शिदाबाद युवा तृणमूल अध्यक्ष अमिरुल इस्लाम, बर्दवान युवा तृणमूल अध्यक्ष सुभाष मंडल, नानूर के विधायक गदाधर हाजरा की भी सुरक्षा बढ़ायी गयी है।

इसके अलावा वीरभूूम के तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष अनुव्रत मंडल की सुरक्षा भी जेड से बढ़ा कर ‘जेड विथ लीड सिक्योरिटी मोबाइल’ कर दी गयी है। इसका मतलब है कि अनुव्रत मंडल जहां भी जायेंगे, उससे पहले पुलिस की गाड़ी वहां की परिस्थिति की जांच करेगी।

साथ ही राज्य के तीन मंत्री स्वपन देवनाथ, ज्योतिप्रिय मल्लिक व रवींद्रनाथ घोष को जेड श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की गयी है। सुरक्षा निदेशालय ने अलीपुरदुआर के विधायक सौरभ चक्रवर्ती, अलीपुरदुआर के तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष मोहन शर्मा, कांग्रेस छोड़ कर तृणमूल कांग्रेस में शामिल होनेवाली सांसद मौसम नूर व राज्यसभा सांसद डेरेक ओ ब्रायन को भी सुरक्षा प्रदान करने का फैसला किया है।

बताया जा रहा है कि लोकसभा चुनाव के पहले कूचबिहार, अलीपुरदुआर, उत्तर दिनाजपुर, दक्षिण दिनाजपुर, बर्दवान और मेदिनीपुर में संघर्ष की घटनाएं हो सकती हैं, इसलिए यहां के नेताओं को सुरक्षा प्रदान की जा रही है।

Spread the love

About desk

Check Also

Citizenship Amendment Act: आर्थिक नुकसान पर ममता सरकार के खिलाफ कोर्ट जाएगी रेल

चैनल हिंदुस्तान डेस्क: नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) को लेकर राज्यव्यापी प्रदर्शन के दौरान …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *