Breaking News
Home / राज्य / जम्मू-कश्मीर / शोपियां में सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, दो आतंकी ढेर

शोपियां में सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, दो आतंकी ढेर

चैनल हिंदुस्तान डेस्क: जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों (Security Forces) द्वारा आतंकियों का सफाया जारी है। राज्‍य के शोपियां जिले के मोलू चित्रगाम इलाके में सोमवार को तड़के सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़ में दो आतंकी मार गिराए गए। जम्मू और कश्मीर पुलिस ने बताया कि रात के समय शोपियां तुर्कवांगम रोड पर मूल चित्रग्राम में एक चौकी पर सुरक्षा बलों ने एक टवेरा वाहन को रोका था।

पुलिस के मुताबिक, चेकपोस्‍ट पर निजी वाहन में सवार आतंकियों को रुकने के लिए कहा गया लेकिन वे नहीं रुके और सुरक्षा बलों पर फायरिंग की। इसके बाद सुरक्षा बलों की ओर से की गई जवाबी कार्रवाई में दो आतंकी मार गिराए गए। आतंकियों की पहचान के लिए जिला पुलिस ने शवों को अपने कब्‍जे में ले लिया है।

जम्मू और कश्मीर पुलिस ने बताया कि जवाबी कार्रवाई में दो आतंकियों की मार गिराने में सफलता मिली। एक आतंकवादी की पहचान फिरदौस अहमद भट के रूप में हुई है और दूसरा सज्जाद अहमद है जो कि गाड़ी चला रहा था। ये दोनों आतंकी कुलगाम के निवासी बताए जाते हैं। इस घटना में एक आतंकी अंधेरे का फायदा उठाकर भागने में कामयाब हो गया।

बता दें कि दक्षिण कश्मीर के जेनपोरा, शोपियां में सुरक्षाबलों ने शुक्रवार को मुठभेड़ में तीन आतंकियों को मार गिराया था। मुठभेड़ के बाद इलाके में भड़की हिंसा में तीन लोग जख्मी हो गए थे। हालात पर काबू पाने के लिए प्रशासन से जेनपोरा समेत शोपियां के सभी संवेदनशील इलाकों में निषेधाज्ञा लागू करने के साथ ही इंटरनेट सेवाओं को भी बंद कर दिया था। आतंकियों के ठिकाने से भारी मात्रा में हथियार और गोला बारूद बरामद किया गया था।

गौरतलब है कि राज्‍य में पवित्र Amarnath Yatra पहली जुलाई से शुरू हो रही है। इसके मद्देनजर सुरक्षाबल पूरी तरह से मुस्‍तैद हैं। आतंकी इस यात्रा में खलल न डाल पाएं इसके लिए सुरक्षा बलों का ऑपरेशन जारी है। सुरक्षाबलों ने कश्मीर घाटी में आतंकरोधी अभियान को जारी रखते हुए इस साल अब तक 101 आतंकियों को मार गिराया है। वर्ष 2018 में यह आंकड़ा 80 के करीब था। इस साल हर माह औसतन पांच आतंकी मारे गए हैं।

आधि‍कारिक सूत्रों के मुताबिक, पुलवामा हमले के बाद सुरक्षाबलों के लगातार बढ़ते दबाव से हताश जैश-ए-मोहम्मद घाटी के भीतर अपनी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए जाकिर मूसा को अपना हथियार बनाने जा रहा था, लेकिन उसकी मौत से जैश का मंसूबा नाकाम हो गया। इस साल सुरक्षाबलों ने 25 विदेशी और 76 स्थानीय आतंकियों को मार गिराया है। इनमें लश्कर, जैश, हिज्ब, आइएसजेके व अंसार गजवात उल हिद के आतंकी शामिल हैं। इस साल मारे गए आतंकियों में सबसे ज्यादा हिज्ब और जैश के हैं।

Spread the love

About desk

Check Also

LoC पर भारत का करारा जवाब, फायरिंग में निशाना बने कई पाक पोस्ट और सैनिक

चैनल हिंदुस्तान डेस्क: पाकिस्तान लगातार सीमा पार से गोलियां बरसा रहा है। अब एक बार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *