Breaking News
Home / टेक्नोलॉजी / एमिसैट के बारे में जानें, आम लोगों ने भी देखा लॉन्चिंग

एमिसैट के बारे में जानें, आम लोगों ने भी देखा लॉन्चिंग

चैनल हिंदुस्तान डेस्क: एमिसैट सैटेलाइट को डीआरडीओ द्वारा विकसित किया गया है। एमिसैट का वजन 436 किलोग्राम है, जिसे 749 किलोमीटर ऊंचाई वाली कक्षा में स्थापित किया जायेगा। विदेशी उपग्रहों को 504 किलोमीटर की ऊंचाई पर अंतरिक्ष में स्थापित किया जायेगा। इनका वजन 220 किलो है।

एमिसैट सैटेलाइट का इस्तेमाल दुश्मन के रडार का पता लगाने और कम्युनिकेशंस इंटेलिजेंस एवं तस्वीरों को इकट्ठा करने के लिए किया जायेगा। इसका मकसद विद्युतचुंबकीय माप लेना भी है। इस सैटेलाइट से सुरक्षा एजेंसियों को यह जानने में मदद मिलेगी कि उस क्षेत्र में कितने मोबाइल फोन सक्रिय हैं।

आम लोगों ने भी देखा रॉकेट लॉन्चिंग

इसरो की रॉकेट लॉन्चिंग का आनंद अब आम लोगों ने भी लिया। इसरो ने अपने शानदार रॉकेट लॉन्चिंग अभियानों को जनता को भी सार्वजनिक तौर पर दिखाने का फैसला लिया था। इसके तहत लोग आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में स्थित सतीश धवन स्पेस सेंटर से कई मंजिला ऊंचे और भारी-भरकम रॉकेटों की लॉन्चिंग को देख पाए। सोमवार को एमिसैट की ल़ॉन्चिंग आम जनता की मौजूदगी में हुई। इसरो ने आम लोगों को मुफ्त में अपने अभियानों को देखने की सुविधा अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा की तर्ज पर शुरू की है। इसरो ने आम लोगों को रॉकेट लॉन्चिंग और स्पेस एक्टिविटीज दिखाने के लिए स्टेडियम सरीखी गैलरी तैयार करायी। इसमें 5,000 लोगों के बैठने की क्षमता थी। इस गैलरी के सामने दो लॉन्चपैड हैं और यहां से बैठकर रॉकेट लॉन्चिंग का नजारा बड़ी आसानी से देखा गया।

Spread the love

About desk

Check Also

कविताओं पर विमर्श – “क्यूंकि” एक पहल ज़रूरी है

गत रविवार “क्यूंकि” संस्था द्वारा बड़ाबाजार लाइब्रेरी में डॉ. गिरधर राय की अध्यक्षता में हिंदी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *