बंगाल की कुल 111 उम्मीदवारों में से 30 करोड़पति और 23 के खिलाफ आपराधिक मामले

0

चैनल हिंदुस्तान डेस्क: पश्चिम बंगाल में अंतिम व सातवें चरण में नौ लोकसभा सीटों पर 19 मई को चुनाव होना है। इन सात सीटों पर कुल 111 उम्मीदवार मैदान में हैं, इनमें से 23 यानी लगभग 21 प्रतिशत उम्मीदवारों के खिलाफ आपराधिक मामले चल रहे हैं. वहीं, 17 उम्मीदवारों (15 प्रतिशत) के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं। यह जानकारी सोमवार को वेस्ट बंगाल इलेक्शन वाॅच की संयोजक उज्जैनी हलीम ने प्रेस क्लब में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में दी।
उन्होंने बताया कि सातवें चरण में प्रमुख पार्टियां जैसे भाजपा के पांच, तृणमूल के चार, कांग्रेस के दो, एसयूसीआइ के तीन व माकपा के दो उम्मीदवारों के खिलाफ विभिन्न धाराओं में आपराधिक मामले दर्ज हैं।

सातवें चरण में 30 उम्मीदवार हैं करोड़पति

सातवें चरण में तृणमूल कांग्रेस के नौ उम्मीदवार मैदान में हैं और इनमें सभी नौ उम्मीदवार करोड़पति हैं। सातवें चरण में मैदान में उतरे 111 उम्मीदवारों में कांग्रेस के टिकट पर कोलकाता दक्षिण से चुनाव लड़ रही मीता चक्रवर्ती सबसे अमीर उम्मीदवार हैं, जिन्होंने 44.75 करोड़ के संपत्ति की घोषणा की है। वहीं, दूसरे स्थान पर जादवपुर से माकपा के उम्मीदवार विकास रंजन भट्टाचार्य हैं, जिन्होंने अपनी कुल संपत्ति 12 करोड़ रुपये बतायी है। तीसरे स्थान पर कोलकाता उत्तर से कांग्रेस उम्मीदवार सईद शाहिद इमाम का नाम है, जिन्होंने 7.56 करोड़ रुपये की संपत्ति की घोषणा की है। वहीं, सातवें चरण में सबसे गरीब उम्मीदवारों की सूची में प्रथम स्थान पर बारासात से निर्दल उम्मीदवार मृणाल कांति भट्टाचार्य हैं, जिन्होंने अपनी कुल संपत्ति मात्र 35,929 रुपये बतायी है। सबसे गरीब तीन उम्मीदवारों में दूसरे स्थान पर दमदम लोकसभा सीट से न्यू डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया के उम्मीदवार सुबीर दास का नाम है। इन्होंने अपनी संपत्ति 41,200 रुपये बतायी है। तीसरे स्थान पर बशीरहाट सीट से निर्दल उम्मीदवार सुभाशीष कुमार भौमिक हैं, जिन्होंने 47,200 रुपये के संपत्ति की घोषणा की है।

Spread the love
Hindi News से जुड़े हर अपडेट और को जल्दी पाने के लिए Facebook Page को लाइक करें और विडियो देखने के लिए Youtube को सब्सक्राइब करें।

Leave A Reply