मरने के बाद भी काम आएंगे सोमनाथ, पार्थिव शरीर को अस्पताल में दान किया जाएगा

0

डेस्क: लोकसभा के पूर्व अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी को पश्चिम बंगाल विधानसभा परिसर में बंदूकों की सलामी दी गयी। इसके बाद उनके पार्थिव शरीर को उनके संकल्प के अनुसार, सरकारी एसएसकेएम अस्पताल को दान कर दिया जाएगा। सोमनाथ चटर्जी का सोमवार को एक निजी अस्पताल में निधन हो गया।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि उनका पार्थिव शरीर उनके अवास पर लाया जाएगा और फिर एसएसकेएम अस्पताल ले जाया जाएगा।’ सोमनाथ चटर्जी ने 2002 में अपना पार्थिव शरीर मेडिकल कॉलेज को दान देने का संकल्प लिया था।

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीएम) के पूर्व नेता का सोमवार को निजी अस्पातल में निधन हो गया। उन्हें दिल का दौरा पड़ने के बाद 7 अगस्त को यहां भर्ती कराया गया था। वह गुर्दे से संबंधित बीमारी से भी पीड़ित थे। दो दिनों से उन्हें वेटिंलेटर पर रखा गया था। पिछले महीने पूर्व लोकसभा अध्यक्ष को मस्तिष्काघात भी हुआ था।

एक दिन पहले एक डॉक्टर ने बताया था कि गुर्दे संबंधी समस्या से जूझ रहे चटर्जी को हाल में गंभीर स्थिति में अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनका डायलिसिस चल रहा था। ऐसे मामलों में कई बार दिल काम करना बंद कर देता है। सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी ने बताया कि पार्टी के कई नेताओं के साथ सोमनाथ चटर्जी ने अपना शरीर मेडिकल रिसर्च के लिए दान किया था। इससे पहले उनके पार्थिव शरीर को पार्टी ऑफिस में रखा जाएगा, जहां उन्हें श्रद्धांजलि दी जाएगी।

Spread the love
Hindi News से जुड़े हर अपडेट और को जल्दी पाने के लिए Facebook Page को लाइक करें और विडियो देखने के लिए Youtube को सब्सक्राइब करें।

Leave A Reply