Breaking News
Home / राष्ट्रीय / पाक ने आतंक का साथ नहीं छोड़ा तो उनके हिस्से का पानी रोकनेपर करेंगे विचार – गडकरी

पाक ने आतंक का साथ नहीं छोड़ा तो उनके हिस्से का पानी रोकनेपर करेंगे विचार – गडकरी

चैनल हिंदुस्तान डेस्क: पुलवामा हमले के विरोध में भारत द्वारा पाकिस्तान का पानी रोकने को लेकर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि भारत ने अभी पाकिस्तान से अपने ही अधिकार का पानी लिया है। यदि पाक ने अपने बर्ताव में परिवर्तन नहीं किया और आतंकी संगठनों को समर्थन जारी रखा तो भारत पाक के हिस्से का पानी रोकने पर भी विचार करेगा। नितिन गडकरी ने कहा कि उन्होंने अपने डिपार्टमेंट को निर्देश दिया है कि पाक के हिस्से का पानी कहां-कहां रोका जा सकता है, इसका डीपीआर बनाकर दें। हालांकि गडकरी ने यह भी साफ किया कि इस संबंध में अंतिम निर्णय उनके विभाग को नहीं बल्कि पीएम और भारत सरकार को ही करना है।

उन्होंने शुक्रवार को कहा, ‘नेहरू और अयूब खान के बीच में सिंधु जल समझौता हुआ है। इस समझौते के अुनसार, रावि, ब्यास और सतलज का पानी भारत को मिलेगा इसके साथ अन्य भारत से निकलने वाली नदियों का पानी पाकिस्तान को जाएगा। जिन तीन नदियों का पानी भारत को मिलता है, उसमें भारत का हिस्सा 33 मिलियन एमएफ था, उसमें से हमने अब तक 31 एमएफ यूज किया है।’
गडकरी ने कहा, ‘अब हमने तय किया है कि बाकी का पानी भी हम उपयोग में लाएंगे। इसके लिए तीन डैम बनाए जाएंगे। इसे कैबिनेट की मंजूरी भी मिल गई है। एक शाहपुर कांडी प्रॉजेक्ट कश्मीर में बन रहा है। इसका पानी जम्मू-कश्मीर को मिलेगा। साथ कुछ पानी यहां से पंजाब में जाएगा। कुछ और प्रॉजेक्ट को भी मंजूरी दी गई है। इन प्रॉजेक्ट से हम पाकिस्तान को जा रहे अपने अधिकार के पानी को रोकेंगे। और इसे राजस्थान, पंजाब और हरियाणा को देंगे।’

उन्होंने कहा, ‘जिस प्रकार से यह अग्रीमेंट हुआ था। उस समय पंडित नेहरू और अयूब खान के बीच जो भाव था, उसमें दोनों देशों के बीच सद्भाव, प्रेम और सामंज्स्य का निर्माण हो, यह भाव हुआ था। नेहरू ने बड़े भाई की भूमिका निभाते हुए अपनी नदियों का पानी पाकिस्तान को दिया था।’

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अब यह सौहार्द्र गायब हो गया है। आतंकवाद और आतंकदियों को सपॉर्ट करके इस पूरी भावना को समाप्त कर दिया है। उन्होंने बताया कि अब लोग मांग कर रहे हैं कि एक बूंद पानी भी पाकिस्तान को नहीं देना चाहिए। गडकरी ने कहा, ‘इस निर्णय का अधिकार सिर्फ मेरे पास नहीं है। पीएम स्तर पर इस पर फैसला होगा। लेकिन मैंने अपने डिपार्टमेंट से कहा कि पाकिस्तान के अधिकार का पानी कहां-कहां रोक सकते हैं, इसका डीपीआर बनाकर दें।

यदि पाकिस्तान की तरफ से ऐसा ही बर्ताव जारी रहा और उन्होंने आतंकी संगठनों का सपोर्ट किया तो मानवता के आधार पर इनके साथ अच्छे व्यवहार का कोई मतलब नहीं है। इसलिए वह तैयारी भी हम लोग कर रहे हैं। पाकिस्तान को चाहिए कि वह तुरंत आतंकी कार्रवाई को राके, अन्यथा चाहे जितना पैसा लगे, हम पाक को जाने वाला पानी भी रोकेंगे और अंत में इसकी जिम्मेदारी पाकिस्तान की होगी। लेकिन इसका अंतिम निर्णय पीएम और भारत सरकार करेगी।’

Spread the love

About desk

Check Also

शाहीन बाग प्रदर्शन पर बोले दिलीप घोष – कोई मर क्यों नहीं रहा, क्या उन्होंने अमृत पी लिया?

चैनल हिंदुस्तान डेस्क: देश के कई राज्‍यों में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और नेशनल रजिस्‍टर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *