Breaking News
Home / राष्ट्रीय / पाकिस्तानी सीमा पर युद्ध से निपटने के लिए तैनात होंगे ‘इंटीग्रेटेड बैटल ग्रुप्स’

पाकिस्तानी सीमा पर युद्ध से निपटने के लिए तैनात होंगे ‘इंटीग्रेटेड बैटल ग्रुप्स’

चैनल हिंदुस्तान डेस्क: पाकिस्तान की ओर से पाकिस्तानी सीमा के पास लगातार बढ़ रहे युद्ध के खतरों को देखते हुए भारतीय सेना एक खास योजना बनाने जा रही है। युद्ध की स्थिति में कैसे दुश्मनों के खिलाफ खास रणनीति बनाकर उन्हें हराया जा सकता है, भारतीय सेना इसके लिए घातक युद्ध रणनीति अक्टूबर तक बनाने की तैयारी कर रही है।

इस खास घातक युद्ध फॉर्मेशन को इंटीग्रेटेड बैटल ग्रुप्स (Integrated Battle Groups) नाम दिया जा रहा है, जिसे पहले पाकिस्तानी सीमा के पास लगाया जाएगा, इसके बाद धीरे-धीरे इसे चीनी सीमा के पास भी तैयार किया जाएगा। सेना के विशिष्ट सूत्रों के मुताबिक, ‘हमने पूर्वी कमांड के अंतर्गत इस खास युद्धक रणनीति इंटीग्रेटेड बैटल ग्रुप्स का अभ्यास किया है। युद्धक फॉर्मेशन टीम और टॉप कमांडरों ने इंटीग्रेटेड बैटल ग्रुप्स के अभ्यास को लेकर सकारात्मक फीडबैक दिया है और इसे बेहतरीन बताया है। इस वजह से हम इस साल के अंत यानि अक्टूबर तक पाकिस्तानी सीमा के पास ऐसे 2 से 3 इंटीग्रेटेड बैटल ग्रुप्स बनाने की तैयारी कर रहे हैं।

सेना के सूत्रों ने बताया कि इंटीग्रेटेड बैटल ग्रुप्स (Integrated Battle Groups) के अभ्यास और उसके फीडबैक को लेकर पिछले हफ्ते विस्तार से चर्चा हुई, आर्मी हेडक्वार्टर में हुई बैठक में 7 आर्मी कमांडरों ने भाग लिया। इस बैठक में कमांडर-इन-चीफ को ये निर्देश दिए गए कि वो अपने-अपने इलाकों में इंटीग्रेटेड बैटल ग्रुप्स का निर्माण कराएं। पहले तीन इंटीग्रेटेड बैटल ग्रुप्स पूर्वी कमांड की फॉर्मेशन की तर्ज पर बनाए जाएंगे।

इंटीग्रेटेड बैटल ग्रुप्स के सेना में शामिल होने के बाद सेना की ताकत और बढ़ जाएगी और सेना पहले से कहीं ज्यादा बेहतर हो जाएगी।इंटीग्रेटेड बैटल ग्रुप्स आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत की उस खास रणनीति का हिस्सा है, जिसमें वो सेना को ज्यादा प्रभावशाली और खतरनाक बनाना चाहते हैं।

Spread the love

About desk

Check Also

‘आर नोइ अन्याय’ के नारों से गूंजा बीजपुर

कोलकाता. भारतीय जनता युवा मोर्चा की ओर से पश्चिम ‘आर नोइ अन्याय’ अभियान चलाया जा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *