रेलवे का निजीकरण नहीं, माल ढुलाई से रेलवे की कमाई में हुयी बढ़ोत्तरी : रेल मंत्री

0

चैनल हिंदुस्तान डेस्क: रेल मंत्री पीयूष गोयल ने लोकसभा में कहा कि भारतीय रेलवे के निजीकरण का कोई प्रस्ताव नहीं है। हालांकि उन्होंने कहा कि रेलगाडि़यों के परिचालन के लिए निजी कंपनियों की भागीदारी समेत विभिन्न विकल्पों पर विचार किया जा रहा है।

गोयल ने एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी। हालांकि, उन्होंने यह भी बताया कि निजी कंपनियों द्वारा परिचालन के लिए अभी तक किसी भी विशिष्ट यात्री गाड़ी की पहचान नहीं की गई है। बहरहाल सूत्रों के मुताबिक रेलवे ने नई दिल्ली-लखनऊ तेजस एक्सप्रेस को इस काम के लिहाज से चिह्नित किया है लेकिन इस संबंध में अभी कोई आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है।

माल ढुलाई से रेलवे की कमाई में बढ़ोत्तरी

गोयल ने बताया कि पिछले तीन साल से माल ढुलाई और उससे रेलवे की कमाई में बढ़ोत्तरी का रुख है। एक सवाल के जवाब ने उन्होंने कहा कि रेलवे को 2018-19 में माल ढुलाई से 1.27 लाख करोड़ की कमाई हुई थी। जबकि, 2017-18 में 1.17 लाख करोड़ और 2016-17 में 1.04 लाख करोड़ की कमाई हुई थी।

दिव्यांगजनों के लिए 30 फीसद स्टेशनों पर सुविधा

पीयूष गोयल ने सदन को बताया कि देश के 30 फीसद रेलवे स्टेशनों पर दिव्यांगजनों की सुविधा के मुताबिक रैंप और अवरोध मुक्त प्रवेश की व्यवस्था है। देश के 8700 रेलवे स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म तक पहुंचने के लिए रैंप और स्लोप रास्ते बनाए गए हैं, ताकि दिव्यांग यात्री आसानी से ट्रेन तक पहुंच सकें।

Spread the love
Hindi News से जुड़े हर अपडेट और को जल्दी पाने के लिए Facebook Page को लाइक करें और विडियो देखने के लिए Youtube को सब्सक्राइब करें।

Leave A Reply