Breaking News
Home / राज्य / पश्चिम बंगाल / वर्जिनिटी पर विवादित बयान देने वाले प्रोफेसर को किया सस्पेंड

वर्जिनिटी पर विवादित बयान देने वाले प्रोफेसर को किया सस्पेंड

चैनल हिंदुस्तान डेस्क: राज्य की जादवपुर यूनिवर्सिटी ने अपने एक प्रोफेसर कनक सरकार द्वारा लड़कियों की वर्जिनिटी को लेकर दिये गये आपत्तिजनक बयान पर कार्रवाई करते हुए उन्हें नौकरी से निलंबित कर दिया। कनक सरकार को तत्काल प्रभाव से नौकरी से हटा दिया गया है। फिलहाल वो अब कॉलेज में किसी भी तरह की क्लास नहीं ले सकेंगे। उल्लेखनीय है कि जेयू के इस प्रोफेसर की विवादित फेसबुक पोस्ट पर राष्ट्रीय महिला आयोग ने स्वत: संज्ञान लिया है। यूनिवर्सिटी की ओर से जारी एक नोटिस में कहा गया है कि स्टूडेंट-टीचर कमेटी की सिफारिश पर प्रोफेसर कनक सरकार को शैक्षिक कार्यों से तत्काल प्रभाव से मुक्त किया जाता है। 18 जनवरी को होने वाली स्टडी शेड्यूल बोर्ड की बैठक में उस विकल्प पर विचार किया जायेगा।
गौरतलब है कि कोलकाता के जादवपुर विश्वविद्यालय के प्रोफेसर ने वूमेन वर्जिनिटी के बारे में अपनी फेसबुक प्रोफाइल पर लिखा था। इस दौरान उन्होंने कई विवादित बातें कहीं थीं।
प्रोफेसर कनक सरकार ने लिखा था, कुंवारी दुल्हन-क्यों नहीं? उन्होंने लिखा- क्या आप कोल्ड ड्रिंक की बोतल या बिस्कुट के पैकेट खरीदते समय टूटी सील खरीदने को तैयार हैं? लड़के ऐसे मूर्ख बने रहते हैं कि उन्हें एक पत्नी के रूप में कुंवारी लड़की होने के लाभ के बारे में पता नहीं होता है।
एक लड़की जन्म से तब तक सील्ड पैदा होती है जब तक इसे खोला नहीं जाता है। एक कुंवारी लड़की का अर्थ मूल्यों, संस्कृति और यौन स्वच्छता के साथ कई चीजें हैं। ज्यादातर लड़कों के लिए, एक कुंवारी पत्नी एक परी की तरह होती है। जादवपुर यूनिवर्सिटी में कनक पिछले 20 वर्ष से इंटरनेशनल रिलेशन्स विषय पढ़ा रहे हैं। अपने इस बयान पर सफाई देते हुए कनक सरकार ने कहा था, मैंने अपने व्यक्तिगत विचार लिखे। सुप्रीम कोर्ट ने आइटी एक्ट के सेक्शन 66 को वापस ले लिया है और सोशल मीडिया पर अभिव्यक्ति की आजादी का अधिकार दे दिया है। मैंने किसी व्यक्ति के खिलाफ बिना किसी सुबूत के नहीं लिखा है।
गौरतलब है कि इस घटना के बाद जादवपुर यूनिवर्सिटी में छात्र-छात्राओं ने मंगलवार को विरोध-प्रदर्शन शुरू कर दिया व उनके खिलाफ नारेबाजी करते हुए उन्हें बरखास्त करने की मांग भी की थी। गुस्साये विद्यार्थियों ने जादवपुर यूनिवर्सिटी कैंपस में प्रोफेसर के खिलाफ रैली भी निकाली थी। कैंपस में कोई अप्रिय घटना फिर न हो सके व महिला आयोग के हस्तक्षेप के बाद प्रशासन ने एक गंभीर फैसला लिया है। फिलहाल प्रोफेसर कनक को सस्पेंड कर दिया गया है।

Spread the love

About admin

Check Also

Citizenship Amendment Act: आर्थिक नुकसान पर ममता सरकार के खिलाफ कोर्ट जाएगी रेल

चैनल हिंदुस्तान डेस्क: नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) को लेकर राज्यव्यापी प्रदर्शन के दौरान …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *